अध्ययन से पता चला है कि नया रक्त परीक्षण कैंसर के उपचार को बेहतर बनाने में कैसे मदद करता है।

Darshan Singh
0

एक नए अध्ययन से पता चला है कि एक नया रक्त परीक्षण कैंसर का इलाज बेहतर बनाने में मदद कर सकता है:

इस नए रक्त परीक्षण से कैंसर का इलाज और भी बेहतर हो सकता है। इसका कारण यह है कि इस परीक्षण से कैंसर का जल्दी पता लगाया जा सकता है, जिससे इलाज की सफलता की संभावना बढ़ जाती है। यह टेस्ट लगभग हर तरह के कैंसर का पता लगाने में सक्षम है। 
अध्ययन से पता चला है कि नया रक्त परीक्षण कैंसर के उपचार को बेहतर बनाने में कैसे मदद करता है।
Image-Source: ET HealthWorld 

नए परीक्षण की कुछ मुख्य बातें:

  • शीघ्र पता लगाना: यह रक्त परीक्षण जल्दी कैंसर का पता लगाने में मदद करता है, जिससे इलाज की सफलता की संभावना बढ़ जाती है।
  • लगभग सभी प्रकार के कैंसर: यह परीक्षण लगभग हर तरह के कैंसर को पहचान सकता है। 
  • व्यक्तिगत उपचार: यह टेस्ट डॉक्टरों को हर मरीज़ के लिए सबसे अच्छा इलाज चुनने में मदद करता है और इलाज के परिणामों पर नजर रखने में सहायक होता है।
  • तकनीक: कैंसर के इलाज में डॉक्टर विभिन्न तकनीकों का इस्तेमाल करते हैं, जैसे इमेजिंग उपकरण, ऊतक के नमूने और एंडोस्कोपिक प्रक्रियाएं लेकिन ये तकनीकें थोड़ी जटिल और आक्रामक होती हैं।
  • तरल बायोप्सी: एक नई और बेहतर तकनीक, जिसे तरल बायोप्सी कहते हैं, खून के नमूनों की जांच करती है, जो कि अंगों या ऊतकों की जांच करने से कम आक्रामक है।
  • आसान और तेज़: खून के नमूने लेना आसान और तेज़ है, जिससे मरीज़ों को कम तकलीफ होती है और उन्हें ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ता है। 
  • ट्यूमर की निगरानी: यह नई विधि डॉक्टरों को ट्यूमर की गतिविधि और प्रसार को सटीकता से देखने में मदद करती है। इससे इलाज को बेहतर और व्यक्तिगत बनाने में मदद मिलती है।
  • DNA का विश्लेषण: यह विधि खून में मौजूद DNA के अंशों का विश्लेषण करती है, जो विशेष प्रकार के कैंसर की पहचान कर सकते हैं।
  • मेटास्टैटिक कैंसर का पता लगाना: यह तकनीक जैविक रूप से कम और अधिक आक्रामक मेटास्टैटिक कैंसर के बीच अंतर का पता लगा सकती है।
  • HIV मरीजों पर परीक्षण: शोधकर्ताओं ने इस विधि का परीक्षण रेडियोथेरेपी से गुजर रहे मरीजों पर किया, जिसमें HIV पॉजिटिव मरीज भी शामिल थे।
  • मरीजों की जीवन गुणवत्ता: कैंसर का जितनी जल्दी पता चलेगा, उतनी ही जल्दी इलाज शुरू हो सकेगा और मरीज की जीवन गुणवत्ता में भी सुधार होगा।
यह तकनीक ज्यूरिख विश्वविद्यालय (UZH) और यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल ज्यूरिख (USZ) के शोधकर्ताओं द्वारा विकसित की गई है। उन्होंने पाया कि यह तरीका कैंसर की पुनरावृत्ति (फिर से होना) का भी जल्द पता लगाने में सहायक है, जिससे इलाज को समय पर बदला जा सके। इस प्रकार नया रक्त परीक्षण कैंसर के उपचार को और अधिक प्रभावी और आसान बना सकता है, जिससे मरीजों की जीवन गुणवत्ता में सुधार हो सकता है। 

सन्दर्भ (References):

  1. Economic Times of India [https://health.economictimes.indiatimes.com/news/industry/study-finds-how-new-blood-test-helps-improve-cancer-treatments/111435208-Website]
  2. मेटास्टैटिक कैंसर [https://www.cancer.gov/types/metastatic-cancer-NCI]
  3. तरल बायोप्सी [https://www.cancer.gov/news-events/cancer-currents-blog/2017/liquid-biopsy-detects-treats-cancer-NCI]

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ

Please do not enter any spam link in the comment box

एक टिप्पणी भेजें (0)