अध्ययन अग्नाशय कैंसर में कीमोथेरेपी प्रतिरोध के बारे में जानकारी देता है।

Darshan Singh
0

अध्ययन अग्नाशय कैंसर में कीमोथेरेपी प्रतिरोध के बारे में जानकारी देता है:

अग्नाशय कैंसर का इलाज कठिन और चुनौतीपूर्ण होता है क्योंकि यह कैंसर तेजी से इलाज के लिए प्रतिरोधी हो जाता है। एक अध्ययन में बताया गया है कि इस प्रतिरोध का कारण यह हो सकता है कि कैंसर कोशिकाओं के आसपास ऊतक की कठोरता और आसपास के ऊतकों की रासायनिक संरचना से जुड़ा होता है।

इस अध्ययन के अनुसार, इस प्रतिरोध को दूर किया जा सकता है और अग्नाशय कैंसर के लिए नए इलाज के संभावित लक्ष्य खोजे जा सकते हैं। 
अध्ययन अग्नाशय कैंसर में कीमोथेरेपी प्रतिरोध के बारे में जानकारी देता है।
Image-Source: ET HealthWorld 

स्टैनफोर्ड विश्वविद्यालय के प्रोफेसर ने बताया कि कड़े ऊतक कैंसर कोशिकाओं को कीमोथेरेपी के प्रति प्रतिरोधी बना सकते हैं, जबकि नरम ऊतक कैंसर कोशिकाओं को इस तरह के उपचार के प्रति अधिक संवेदनशील बनाते हैं। ये नए परिणाम भविष्य में अग्नाशय कैंसर के लिए नए उपचारों के विकास की दिशा में महत्वपूर्ण हैं।

Pancreatic Ductal Adenocarcinoma एक प्रकार का कैंसर है जो अग्नाशय के नलिकाओं में उत्पन्न होता है और यह लगभग 90% मामलों के लिए जिम्मेदार होता है। इस कैंसर में, कोशिकाओं के बीच की बाह्यकोशिकीय मैट्रिक्स बहुत सख्त हो जाती है, जिससे कीमोथेरेपी दवाओं को कैंसर कोशिकाओं तक पहुंचने में अड़चन आती है। वैज्ञानिकों ने यहां तक की की बाह्य मैट्रिक्स के रासायनिक और यांत्रिक गुणों को संवेदनशील बनाकर कैंसर कोशिकाओं के उपचार में सुधार किया जा सकता है।

हेइलशोर्न ने अग्नाशय कैंसर के रोगियों के कोशिकाओं में एक नई प्रणाली विकसित की है जिससे कैंसर कोशिकाएं अपने आस-पास के मैट्रिक्स के संकेतों को समझ सकें। इस अध्ययन से कैंसर के विकास और उसके उपचार में नई संभावनाएं सामने आ सकती हैं।

शोधकर्ताओं ने एक नई प्रणाली विकसित की है जिससे कैंसर कोशिकाएं कीमोथेरेपी के खिलाफ प्रतिरोधी बन सकती हैं। उन्होंने पाया कि कैंसर कोशिकाएं के लिए दो मुख्य घटक होते हैं: पहला, शारीरिक रूप से कठोर बाह्य कोशिकीय मैट्रिक्स जिसमें हयालूरोनिक एसिड अधिकतम होता है, और दूसरा, CD44 नामक रिसेप्टर जो कोशिकाओं के साथ संपर्क करता है।

पहले मैट्रिक्स में कैंसर कोशिकाएं कीमोथेरेपी के प्रति प्रतिक्रिया करती थीं, लेकिन थोड़ी देर बाद वे कैमोथेरेपी दवाओं के प्रति प्रतिरोधी हो गई। शोधकर्ताओं ने पाया कि ये कैंसर कोशिकाएं अपनी मैट्रिक्स को बदलकर (जैसे कि हयालूरोनिक एसिड की मात्रा कम करके) या CD44 रिसेप्टर को निषेधित करके इस प्रतिरोध को उलटा सकती हैं।

डॉ. हेइलशोर्न ने बताया कि हम एक दिन शायद अग्नाशय कैंसर के इलाज में नई दिशा प्रदान कर सकते हैं। उनके अनुसार, CD44 रिसेप्टर्स के माध्यम से कोशिकाएं कीमोथेरेपी के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकती हैं, जिससे इस रोग के उपचार में सुधार हो सकता है। यह खोज यह सुझाव देती है कि अगर हम कठोरता को कम कर सकते हैं, तो अग्नाशय कैंसर के मरीजों की साधारण कीमोथेरेपी से उनका इलाज संभव हो सकता है।

हेइलशोर्न और उनके सहकर्मी ने बताया कि अग्नाशय के कैंसर कोशिकाएं CD44 रिसेप्टर्स का उपयोग करके अपने आस-पास के कठोर मैट्रिक्स से संपर्क करती हैं। यह काम इंटीग्रिन रिसेप्टर्स की तरह नहीं किया गया, जो अन्य कैंसरों में पाये जाते हैं।

हेइलशोर्न ने बताया कि उन्होंने देखा कि अग्नाशयी कैंसर कोशिकाएं वास्तव में Integrin Receptors का उपयोग नहीं कर रही हैं, जो इस खोज को महत्वपूर्ण बनाता है। यह जानकारी नई दवाओं के विकास में मदद कर सकती है जो कैंसर उपचार को सुधारने के लिए हो सकती हैं।

हेइलशोर्न और उनके सहकर्मी अब यह देखने के लिए जांच रहे हैं कि ये घटनाएँ कैंसर कोशिकाओं में कैसे प्रभावित किया जा सकता है, ताकि इसे कैंसर उपचार के लिए नई दवाओं के विकास में उपयोगी बनाया जा सके।

शोधकर्ता अब अपने सेल कल्चर मॉडल को और भी विकसित करने के लिए काम कर रहे हैं। उन्होंने नए प्रकार की कोशिकाओं को जोड़कर ट्यूमर के आसपास के वातावरण की बेहतर नकल करने का प्रयास किया है। इसके अलावा, वे Chemoresistance के इलाज के लिए नए रास्ते खोलने की कोशिश कर रहे हैं और मैट्रिक्स के अन्य यांत्रिक गुणों की जांच कर रहे हैं।

हेइलशोर्न ने बताया कि कीमोथेरेपी डिजाइन करते समय हमें विशिष्ट मैट्रिक्स की जांच करनी चाहिए जो रोगी के लिए उपयुक्त हो। इसलिए, यह महत्वपूर्ण है कि हम वहाँ कोशिकाओं की प्रतिक्रिया देने के तरीके को विश्लेषित करें जो उनके आसपास के मैट्रिक्स पर निर्भर करते हैं।

सन्दर्भ (References):

  1. Economic Times of India [https://health.economictimes.indiatimes.com/news/industry/study-gives-insight-into-chemotherapy-resistance-in-pancreatic-cancer/111514700-Website]
  2. Pancreatic Ductal Adenocarcinoma [https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC7031151/-NIH]
  3. Chemoresistance [https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC6770382/-NIH]

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ

Please do not enter any spam link in the comment box

एक टिप्पणी भेजें (0)