ग्लोबलडेटा के अनुसार इस दशक में महिला बांझपन के मामलों में 0.4% की कमी आने की उम्मीद है।

Darshan Singh
0

ग्लोबलडेटा के अनुसार इस दशक में महिला बांझपन के मामलों में 0.4% की कमी आने की उम्मीद है:

ग्लोबलडेटा की नवीनतम रिपोर्ट के अनुसार, 2023 से 2033 तक सात प्रमुख बाजारों (7MM) में महिला बांझपन के मामलों में हर साल 0.41% की कमी होगी। रिपोर्ट बताती है कि कुल मामलों की संख्या में कमी आएगी। 2033 तक संयुक्त राज्य अमेरिका में सबसे अधिक मामले होंगे, जबकि स्पेन में सबसे कम मामले होंगे।

ग्लोबलडेटा के अनुसार इस दशक में महिला बांझपन के मामलों में 0.4% की कमी आने की उम्मीद है।
Image-Source: ET HealthWorld

ग्लोबलडेटा की रिपोर्ट के अनुसार, सात प्रमुख बाजारों (7MM) में महिला बांझपन के कुल मामलों की संख्या 2023 में 16,732,165 से घटकर 2033 में 16,053,363 हो जाएगी। यह हर साल 0.41% की कमी को दर्शाता है।

अपनी नवीनतम रिपोर्ट, "महिला बांझपन - महामारी विज्ञान विश्लेषण और 2033 तक पूर्वानुमान" में, यह सुझाव दिया गया है कि 2033 में, अमेरिका में कुल प्रचलित मामलों की सबसे बड़ी संख्या, कुल 5,492,669 मामलों का अनुभव होने का अनुमान है, जबकि स्पेन में सबसे कम गिनती होने का अनुमान है। 1,009,964 मामलों पर।

भारती प्रभाकर MPH, एसोसिएट प्रोजेक्ट मैनेजर, फार्मा, ग्लोबलडेटा के अनुसार बांझपन की व्यापकता के कई कारण हैं। इनमें सामाजिक जनसांख्यिकीय, व्यवहारिक, शारीरिक और मानसिक 
स्वास्थ्य स्थितियाँ शामिल हैं। बांझपन अधिक प्रचलित हो गया है और सहायक प्रजनन प्रौद्योगिकियों में प्रगति ने बांझपन के मुद्दों को हल करने की संभावनाओं को काफी बढ़ा दिया है।

प्रभाकर ने निम्नलिखित बातों पर प्रकाश डाला है जैसे वजन से संबंधित समस्याएं, जैसे उच्च या निम्न Body Mass Index (BMI), बांझपन के लिए महत्वपूर्ण जोखिम कारक हैं। धूम्रपान से प्रजनन संबंधी कई हानियाँ होती हैं। इनमें गर्भधारण में देरी, प्राथमिक और माध्यमिक बांझपन, गर्भपात, और अस्थानिक गर्भधारण शामिल हैं।

महिला बांझपन की व्यापकता कई कारकों पर निर्भर करती है। इनमें जोखिम का समय, जोखिम का प्रकार (जैसे दंपति की स्थिति, गर्भनिरोधक उपयोग और बच्चे की इच्छा), और परिणाम शामिल हैं। प्रभाकर के अनुसार, गलत वर्गीकरण तब हो सकता है जब मूल्यांकन के लिए कम एक्सपोज़र अवधि का उपयोग किया जाता है।

सन्दर्भ (References):

  1. Economic Times of India [https://health.economictimes.indiatimes.com/news/industry/female-infertility-cases-to-decrease-at-0-4-agr-over-the-decade-globaldata/111459257-Website]
  2. महिला बांझपन [https://my.clevelandclinic.org/health/diseases/17774-female-infertility-Cleveland Clinic]

एक टिप्पणी भेजें

0टिप्पणियाँ

Please do not enter any spam link in the comment box

एक टिप्पणी भेजें (0)